Central GST के 4 अफसरों ने लगा ली SDM की फर्जी सील, बना लिया जाति प्रमाण पत्र

जबलपुर. सेंट्रल जीएसटी के चार अधिकारियों के खिलाफ धोखाधड़ी सहित अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। इन पर जाति प्रमाण पत्र के सत्यापन में फर्जीवाड़ा करने का आरोप है। इस मामले में जबलपुर के अधारताल के एसडीएम के रीडर को भी नामजद किया गया, जिसे कलेक्टर ने निलम्बित कर दिया है। उधर, सेंट्रल जीएसटी की विजिलेंस टीम ने प्रकरण की जांच शुरू कर दी है।जानकारी के अुनसार सेंट्रल जीएसटी में अधीक्षक के पद पर पदस्थ मुकेश बर्मन, मनीष कोशरिया, सतीश रैकवार और राजेश बर्मन के जाति प्रमाण पत्र सहायक आयुक्त सतर्कता (सीजीएसटी) कार्यालय से एसडीएम अधारताल भेजे गए थे। इनके जाति प्रमाण पत्र वर्ष 1989 के बने हुए थे, जिन्हें सत्यापित करने में एसडीएम अधारताल शिवाली सिंह ने असमर्थता जता दी थी। तब सेंट्रल जीएसटी के चारों अधिकारियों ने एसडीएम के रीडर संजय पुराविया के माध्यम से फर्जी डिजिटल साइन और दस्तावेज के जरिए कूटरचित सत्यापन प्रमाण पत्र तैयार कर लिया। जिसे विभाग में जमा भी कर दिया। लेकिन हस्ताक्षर सहित कई अन्य जगह स्केन के निशान होने पर सीजीएसटी के विजिलेंस को संदेह हुआ तो इसकी पुष्टि के लिए फिर एसडीएम कार्य

Central GST के 4 अफसरों ने लगा ली SDM की फर्जी सील, बना लिया जाति प्रमाण पत्र

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow