पोर्टेबल स्पीकर में छिपाकर लाया 20 लाख रुपए का सोना; शारजहां से आ रहा था मुंबई का यात्री, जयपुर में पकड़ा गया

जयपुर एयरपोर्ट पर शारजहां से आ रहे यात्री के पोर्टेबल स्पीकर में छिपाकर रखा गया करीब 20 लाख रुपए का सोना कस्टम विभाग ने पकड़ा - Dainik Bhaskar

खाड़ी देशों से फ्लाइट में यात्रा के दौरान सोने की तस्करी के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। बुधवार को कस्टम विभाग की टीम ने शारजहां से एयर अरेबिया की फ्लाइट में आ रहे एक और यात्री को तस्करी के सोने के साथ धरदबोचा। उसके कब्जे से 435 ग्राम सोना बरामद किया गया है। यह सोना एक वायरलेस पोर्टेबल स्पीकर (KAROKE) में छिपाकर लाया जा रहा था। इस सोने की अंतरराष्ट्रीय कीमत करीब 20 लाख रुपए आंकी जा रही है।

कस्टम विभाग के कमिश्नर सुभाष अग्रवाल ने बताया कि पकड़ा गया यात्री सोमेश चैंबूर, मुंबई का रहने वाला है। बुधवार सुबह पौने 4 बजे शारजहां से जयपुर एयरपोर्ट पहुंचा। यहां असिस्टेंट कमिश्नर ML शेरा के सुपरविजन में कस्टम विभाग की टीम ने उसे पकड़ा। उसके सामान की तलाशी में एक पोर्टेबल स्पीकर मिला। इसे कटर से काटने पर 262 ग्राम की रॉड और सिलेंड्रिकल आकार में 173 ग्राम सोना मिला।

मंगलवार रात को रेडियो बैटरी में छिपा कर रखा सोना पकड़ा था

इससे पहले मंगलवार रात को कस्टम टीम ने दुबई से आ रहे सीकर के रहने वाले शाहिद अली को करीब 16 लाख रुपए के अवैध सोने के साथ जयपुर एयरपोर्ट पर पकड़ा गया। वह रेडियो बैटरी में छिपाकर दुबई से सोना लेकर आया था। इस 347 ग्राम सोने को भी जब्त कर लिया गया है। इनकी कीमत 20 लाख रुपए से कम होने पर यात्री को गिरफ्तार नहीं किया गया है। शाहिद को दुबई में एक व्यक्ति ने सोने को जयपुर पहुंचाने के बदले फ्लाइट का किराया दिया था। वहीं, यहां जिस व्यक्ति को सोना पहुंचाना था। उसने भी एक हजार रुपए देने का वादा किया था।

दुबई से तस्करी करके ला रहा था, जयपुर एयरपोर्ट पर पकड़ा गया

एक साल विदेश में रहने वाले यात्री ही ला सकते हैं एक तय सीमा में सोना

कस्टम के असिस्टेंट कमिश्नर ML शेरा ने बताया कि अगर कोई पुरुष यात्री 1 साल से विदेश में रह रहा है, तो वो भारत आने पर अपने साथ 50 हजार रुपए कीमत तक के सोने के आभूषण ला सकता है। जबकि, एक साल विदेश में रहने वाली महिला यात्री 1 लाख तक के सोने के आभूषण ला सकती है। इस पर उन्हें कोई कस्टम ड्यूटी नहीं चुकानी होगी।

यदि वे इससे अधिक कीमत के आभूषण लेकर आते हैं तो उन्हें इस पर नियमानुसार कस्टम ड्यूटी चुकानी होगी। अगर सोना किसी ज्वेलरी फर्म के अलावा लाया जा रहा है, तो उसकी ड्यूटी सरकार तो चुकानी ही होगी। इसके अलावा उसकी 10 प्रतिशत ड्यूटी विदेशी मुद्रा कोष में भी जमा करानी होगी।

एक साल में पकड़ा गया 40.76 किलो सोना, 28 लोग हो चुके हैं गिरफ्तार

कस्टम कमिश्नर सुभाष अग्रवाल ने बताया कि पिछले साल 1 अप्रैल से इस साल 31 मार्च तक जयपुर में सोने तस्करी के करीब 21 मामले सामने आए। जिसमें 20.47 करोड़ रुपए का 40.76 किलो सोना बरामद हुआ। इसमें 28 लोगों की गिरफ्तारी भी हुई। इनमें उन यात्रियों को गिरफ्तार नहीं किया गया है, जिनके कब्जे से 20 लाख रुपए से कम बाजार कीमत का सोना बरामद हुआ था।

सौजन्स से: दैनिक भास्कर

You are Visitor Number:- web site traffic statistics