जीएसटी को लागू करने के बाद आ रही दिक्कतों को समझने के लिए चार्टर्ड अकाउंटेंट से क्लास ले रहे है इम्पोर्टर तथा एक्सपोर्टर

धर्मवीर आनंद
नई दिल्ली। पूरे देश में आज जीएसटी की लहर चल रही है। अफसर, चार्टर्ड अकाउंटेंट लगे है पूरे देश के व्यापारियों तथा इर्म्पोटरों तथा एर्क्पोटरों को नए कानून को समझाने में जिसमें चार्टर्ड अकाउंटेंट की परेशानियां ज्यादा है। वह बैंक्ट हॉल तथा होटलों पर सभी को इकट्ठा करके नए कानून के बारें में समझा रहे है। इन सभी व्यापारियों के प्रश्नों के उत्तर बड़ी सरल भाषा में चार्टर्ड अकाउंटेंट समझा रहे है। चार्टर्ड अकाउंटेंटों का भी जीएसटी को लागू करने में बहुत ही बड़ा सहयोग है। सरकार चाहे टी.वी या अफसरों के सहायता से कितना भी समझा ले मगर व्यापारी अपने चार्टर्ड अकाउंटेंट से ही ज्यादा अच्छी तरह समझ सकते है क्योकि उनको पता है कि परेशानी आने पर अपने चार्टर्ड अकाउंटेंट को ही जवाब देना होता है। अभी भी व्यापार तथा इम्पोर्ट-एक्पोर्ट में ज्यादा पढ़े लिखे लोग नहीं है। वैसे तो बड़े क्लीयरिंग ऐजेंटों तथा सीएचए असोशिएशन को भी अपनी-अपनी पार्टियों को बूलाकर बकाया चार्टर्ड अकाउंटेंट तथा ट्रेनिग प्राप्त अफसरों की सेवाए ले कर जीएसटी के बारे में चाय वार्ता करनी चाहिए। ताकि अपने व्यपारियों को पूरी तरह कानून की समझ आ जायें और वह बिना झिझक के काम कर सके।
इसी तरह 1 जुलाई को फर्निचर मार्किट के जाने माने चार्टर्ड अकाउंटेंट राकेश डंग ने अपने सहयोगी चार्टर्ड अकाउंटेंट मयंक डंग, अमृतपाल सिहं, तथा निकुंज शर्मा के साथ कीर्ति नगर फर्नीचर मार्किट तथा करोल बाग मार्किट के सभी इर्म्पोटरों-एक्सर्पोटरों को जीएसटी के बारे में विस्तार से बताया। रेवेन्यू न्यूज के संपादक धर्मवीर आनन्द ने भी इस प्रोग्राम में शामिल होकर विस्तार से जीएसटी के बारे में समझा।

You are Visitor Number:-