सीबीआई की टेड़ी नजर कस्टम एण्ड सेंट्रल एक्साइज पर

नई दिल्ली : सीबीआई, डीआरआई, कस्टम, सेंट्रल एक्साइज, सर्विस टैक्स, वैट, ईडी आदि कई सारे डिपार्टमेंट है जिनसे गलत काम करने वाले डरते है मगर इनमें से ऐसे कई डिपार्टमेंट है। जो लोगों की नजर में बिकाऊ है पैसा दो काम खत्म। मगर अब भी सीबीआई और डीआरआई दो ऐसे डिपार्टमेंट है जिसके केस बनने से लोग बहुत डरते है। गलत काम करने वालों में सीबीआई एक दहशत का नाम है और होना भी चाहिए। आज जिस तरह भ्रष्टाचार का खेल पूरे देश में चल रहा है लोग छोटे-मोटे डिपार्टमेंट से डर नहीं रहे। वहां सीबीआई का डर आज भी कायम है खास-तौर पर बड़े मगरमच्छों के लिए जो किसी से नहीं डरते वह सीबीआई से डरते है। भारत में चाहे अफसर सही हो या बड़ा घोटालेबाज। आजकल हवाला कारोबार भारी मात्रा में हो रहा है तो इंफॉरसमेंट डिपार्टमेंट का काम काफी बढ़ गया है। अभी हाल ही में सीबीआई ने कुछ बड़े कस्टम अफसरों को अपनी गिरफ्त में लिया।
सूत्र बताते है कि सीबीआई को अभी तक कस्टम किस तरह मैनेज कर रहा था, पता नहीं क्यों सीबीआई की नजर इस महाभ्रष्ट डिपार्टमेंट पर गई? सीबीआई की नाक के नीचे यहां रिश्वत के खेल होते है मगर पकड़ा कोई नहीं जाता।
सूत्रों की माने तो सीवीसी और सीबीआई में इस समय कस्टम तथा सेंट्रल एक्साइज के कई अफसरों को घेरने की तैयारी चल रही है। यह बम कब फूटगा पता नहीं, मगर जिस तरह से रिश्वत की बेइंतहा हो चूकी है इन भ्रष्ट अफसरों द्वारा। खुल कर किया जाता है भ्रष्टाचार। अभी कमिश्नर अतुल दीक्षित के पकड़े जाने के बाद कई खुलासे सामने आये है और दिल्ली एयरपोर्ट पर भी डीआरआई द्वारा एक कस्टम एक्सपोर्टर के पकड़े जाने के बाद उसके पास जो लिस्ट मिली है जिनको मोटी रिश्वत बांटी जाती थी कई नाम सामने आये है। अभी हम ज्यादा क्या लिखें अफसरों को लड़की बाजी में फंसा कर उनकी विडियो बना कर ब्लैकमेल किया जाता था। मोदी जी भी पूरी दुनिया घूम- घूम कर बड़ी कम्पनियों को भारत में पैसा इंवेस्ट करने की गुहार लगा रहे है। मगर देश का जर्जर इंफ्रास्ट्रक्चर इतना भ्रष्ट है कि वो लोग सोचते है कि जिस देश में बिना पैसे काम ही नहीं होता वहां पैसा कैसे लगाया जाये। मोदी जी को भ्रष्टाचार को खत्म करने का पहले नम्बर पर काम करना चाहिए। अच्छे अफसरों को आगे लाकर भ्रष्ट अफसरों की लगाम कसी जाये तभी यह सब हो सकता है। यह अभियान दिल्ली के साथ मुम्बई से शुरु होना चाहिए जहां भ्रष्टाचार का समुद्र बहता है। अभी सरकार द्वारा इन भ्रष्टाचारियों पर लगाम कसने की कोई गतिविधियां नजर नहीं आ रही है। आज भी इस महाभ्रष्ट डिपार्टमेंट में रिश्वत का खेल जोरों पर है।

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics