व्यापारियों के कंप्यूटर खंगालने से पकड़ी गई हजारों करोड़ों की टैक्स चोरी

Image result for gstनई दिल्ली : सरकार के इनडायरेक्ट टैक्स डिपार्टमेंट ने गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स लागू होने के एक वर्ष बाद हजारों करोड़ रुपए की टैक्स चोरी पकड़ी है। डिपार्टमेंट अपनी डेटा एनलिटिक्स कैपेबिलिटी को मजबूत कर रहा है। जीएसटी काऊंसिल ने पिछले एक वर्ष के दौरान एकत्र किए गए डेटा और टैक्स के बड़े पूल का एनलिटिक्स शुरु किया है और एक अलग फ्रॉड एनलिटिक्स्स सिस्टम तैयार करने के लिए प्रपोजल मंगाए गए हैं। फ्रॉड एनलिटिक्स का मकसद इंटेलिजेंस, टैक्स से जुड़ी जवाबदेही के साथ ही टैक्स बेस को बढ़ाना है।
इनडायरेक्ट टैक्स डिपार्टमेंट के एक सूत्र ने बताया अभी तक हम हजारों करोड़ रुपए की टैक्स चोरी पकड़ने में कामयाब रहे हैं और सरकार इस पर ध्यान दे रही है।
व्यापारीयों का डेटा जीएसटीआर-1, जीएसटीआर-3बी जैसे फॉम के जरिए एकत्र किया जाता है। इसके साथ ही प्रॉडक्ट की वैल्यू, टैक्स रेट, टैक्स की रकम, बिक्री और खरीदरी के विवरणों से जानकारी हासिल की जाती है।
जीएसटी काऊंसिल के लिए टैक्स चोरी बड़ी चिंताओं में से एक है एनालिस्टस, जीएसटी सुविधा प्रोवाइडर्स का कहना है कि सरकार और कारोबारियों को कम्पलायंस के दौरान एकत्र किये गए डेटा में कमियां दिख रही हैं। जीएसटीएन के सीआईएसओ आनंद पांडे ने बताया, टैक्स एकत्र करने के नजरिए से एक बड़ी चिंता टैक्स से बचना है। ऐसे मामलों को जल्छ पकड़ने के लिए डेटा एनालिटिक्स का इस्तेमाल करने की योजना है। हमने इसके लिए एक पार्टनर चुनने के मकसद से रिकवेस्ट फॉर प्रपोजल जारी किया है। हम एकत्र किए गए डेटा पर एनालिटिक्स करेंगे, जिससे हम डेटा में गड़बड़ियों की पहचान कर टैक्स अधिकारियों की उपयुक्त कार्रवाई शुरू करने में मदद कर सकेंगे। जीएसटीएन के डेटा एनालिटिक्स पोजेक्ट का मकसद बिग डेटा और एडवांस एनालिटिक्स की ताकत का इस्तेमाल करना है। इससे जीएसटीएन को डेटा से बेहतर संकेत मिल सकेंगे और फ्रॉड की संख्या में कमी लाने में मदद मिलेगी। एनालिस्टस का कहना है कि डेटा एनालिटिक्स से सरकार और कारोबारीयों दोनों की जवाबदेही बढ़ी है। उदाहरण के लिए, बिजली की खपत और एक व्यापारी के टर्नओवर में असमानता को समझने के लिए आकड़ों और टेक्स्ट दोनों का इस्तेमाल किया जाता है।
उदाहरण के लिए, अगर किसी कंपनी की बिजली की खपत बढ़ रही है, लेकिन उसके टर्नओवर में वुद्धि नहीं हो रही, तो इसकी जांच करने की जरुरत है।

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics