लॉकडाउन में दिखा दी कोयले की ढुलाई, जीएसटी टीम ने आठ ठिकानों पर की छापेमारी

रायपुर, जेएनएन। छत्तीसगढ़ में लॉकडाउन की अवधि के दौरान भी कोयले की ढुलाई दिखाकर जीएसटी चोरी करने वाले कोयला कारोबारी के चार जिलों के आठ ठिकानों पर स्टेट जीएसटी की टीम ने छापा मारा है। जीएसटी के आला अधिकारियों ने कोयला परिवहन और विक्रय से संबंधित सारे दस्तावेज जब्त कर लिए हैं। छत्तीसगढ़ के कोयला कोरोबारी समूह इंद्रमणि फर्म पर जीएसटी के छापे के बाद बड़ी टैक्स चोरी की जानकारी सामने आई है। अब तक मिले दस्तावेजों के आधार पर समूह की करीब 70 करोड़ की टैक्स चोरी पकडी गई है। यह आंकड़ा जांच पूरी होने तक और भी बढ़ने का अनुमान लगाया जा रहा है।

इंद्रमणि फर्म के रायपुर स्थित दफ्तर से जब्त दस्तावेजों की जांच की जा रही है। कोयले की फर्जी लोडिंग और अनलोडिंग बताकर करोड़ों रुपये के टैक्स चोरी की आशंका पर जीएसटी टीम ने छापा मारा। सभी आठ ठिकानों से कोयला ट्रांजेक्शन से संबंधित दस्तावेज जब्त कर लिए हैं, जिसकी शुक्रवार को रायपुर मुख्यालय में जांच पड़ताल शुरू हुई।

लॉकडाउन में दिखा दी कोयले की ढुलाई, जीएसटी टीम ने आठ ठिकानों पर की छापेमारी

रायपुर के तीन, बिलासपुर के दो, कोरबा के एक और रायगढ़ के दो ठिकानों पर शुक्रवार सुबह शुरू हुई कार्रवाई देर रात तक चलती रही। स्टेट जीएसटी के ज्वाइंट कमिश्नर (इन्फोर्समेंट) गोपाल वर्मा ने बताया कि कोयला कारोबार से जुड़े इंद्रमणि कोलफील्ड के ठिकानों पर कार्रवाई की गई है। यह कार्रवाई खनिज विभाग और पुलिस विभाग के अधिकारी की संयुक्त टीम ने की है। अब तक टैक्स चोरी के दस्तावेज मिले हैं, उनका परीक्षण करने के बाद ही वास्तविक टैक्स चोरी की जानकारी होगी।

 

जीएसटी छापे को लेकर मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा कि विभाग के अधिकारियों ने सूचना के आधार पर कार्रवाई की है। इस समय जब राज्य को ज्यादा से ज्यादा कर की आवश्यकता है, तो सभी को उचित कर जमा करके राज्य सरकार का सहयोग करना चाहिए। कोयला कारोबार से जुड़े लोगों पर छापा पड़ा है। जीएसटी के आला अधिकारियों ने बताया कि इंद्रमणि कोलफील्ड के मालिक सुनील अग्रवाल हैं। रायपुर के तेलीबांधा में इंद्रमणि फर्म का दफ्तर है, जहां कार्रवाई की गई है। पूरी कार्रवाई इंद्रमणि कोलफील्ड से जुड़े संस्थानों पर हुई है।

 

सौजन्य से: दैनिक जागरण

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics