मोदी नहीं योगी स्टाईल चाहता है देश

आज पूरा देश योगी-योगी कर रहा है पूरे भारत में चर्चा है योगी स्टाईल की यह बात मानो या ना मानो आज योगी मोदी जी से एक कदम आगे जा रहे है। देश यही स्टाईल चाहता है हर काम में। मोदी जी ने भी बड़े-बड़े काम किये है पर पूरी तरह कुछ भी ठीक नहीं हुआ नोटबंदी की मगर भ्रष्टाचार, चोरबाजारी में कुछ कमी आई। स्वच्छ अभियान चलाया गया लेकिन वह भी एक नारा बनकर रह गया अभी भी गंदगी में कोई कमी नहीं आयी। अगर एक-एक काम को पांच-पांच साल लग जायेंगे तो एक पीढ़ी तो देश को ठीक होते देख ही नहीं सकती। मोदी जी को भी जान लेना चाहिये की लोगों को प्यार के साथ साथ सख़्ती की भी पूरी तरह जरूरत है हर बात कानून के ढ़ंग से लागू करनी पड़ेगी तभी सुधार हो सकता है। रिश्वत खोरी पहले से बढ़ चुकी है अभी भी देश में इतनी ज्यादा विकृतियां है खत्म होते-होते दशकों लग सकते है। मिलावटखोरी, जमाखोरी, नकली माल बेचने से लेकर सुई तक का रेट ठीक नहीं है। एमआरपी की कोई वेल्यू नहीं वही एक चीज छोटी दुकान पर 100 रुपए की है और बड़े शोरूम पर 1000 रुपए की है इतना फर्क है। चारों तरफ एक ही सोच है आटे और दाल वाले तक कि किस तरह कस्टमर को लुटा जाये। कोई भी अच्छी क्वालिटी देकर कस्टमर को सामान लेने के लिए आकर्षित नहीं करता। बहुत कम लोग ऐसे है जो क्वालिटी और रेट की सोचते है। बाकी तो हर व्यापारी यही सोच रहा है कि देश को किस तरह चुना लगाया जाये। चाहे वह अफसर, व्यापारी अथवा नेता है। अखबारें भरी पड़ी है अरबों रूपयों के घोटालों से डंडा चाहिये देश को सुधारने के लिए थाने से लेकर कोर्ट तक पैसों का बोलबाला है। आज पूरे देश में ज्यादातर लोग अपराधिक तथा अन्य मुद्दो पर  पिसते रहते है कोई थाने  नहीं जाता। 10 प्रतिशत लोग ही न्याय के लिये थाने जाते है कारण यह है कि उनको मालूम है कि सही आदमी की सुनवाई नहीं है। देश के लोग सब तरह से दु:ख झेलते रहेंगे मगर थाने नहीं जायेगें। हर बात पर कानून सख़्ती से लागू नहीं होता। देर रात तक डी.जे बजाना आम बात है। आस-पास के लोग परेशान होते रहेंगे लेकिन कोई कम्पलेन नहीं करेगा मालूम है कि पुलिस पैसे लेकर चली जायेगी। जब तक कानून का बिकना बंद नहीं होगा तब तक देश सुखी नहीं हो सकता। सब दलाली खा रहे है। सबसे ज्यादा देश में इम्पोर्ट एक्सपोर्ट में भारी धांधली हैं कभी मुझे बुला कर सुनों तो मैं आप को बताऊ की देश की मिट्टी भी कंटेनरों में भरकर बाहर भेजी जाती है। 100% ईवोयू यूनिटों कि हेरा फेरी से किस तरह से शिपींग लाईन और अफसरों कि मिलीभगत से छोटे पोर्ट खरीद लिये जाते है और रातों-रात इंसान अरबोंपति बन जाता है। पूरा देश मोदी जी और योगी जी की ओर देख रहा है कि कब औरकैसे सुधारेगें यह देश। देश का बॉर्डर हो या नक्सलवादी या कश्मीर का आतंकवादी आज सब हमारे फौज पर हावी है। मगर देश चाहता है कि हमारी फौज उन पर हावी हो। कब होगा यह  जब तक राजनीतिक फायदे में ऊपर उठ कर देश हित में काम नहीं किया जायेगा। तब तक देश का भला नहीं हो सकता।

Leave a Reply

You are Visitor Number:-