मुम्बई कस्टम प्रिवेंटीव ने पकड़ा मिस-डिक्लरेशन करके लाया जा रहा करोड़ों का माल

मुंबई : कस्टम की मेरिन ऐंड प्रिवेंटिव विंग ने न्हावा शेवा पोर्ट पर 40 फीट आकार का एक कंटेनर जब्त किया और जब उसकी जांच की तो उसके नीचे से जमीन खिसक गई, क्योंकि जहां आयातक ने केवल 29 कार्टन ही घोषित किए थे। इस कंटेनर में 900 कार्टन मिले, जिनमें करीब 4 करोड़ रुपये का अघोषित माल था, जबकि आयातक ने केवल 9 लाख रुपये का माल घोषित करते हुए 2 लाख रुपये की कस्टम डूटी भरी थी। इस पर कस्टम को करीब 1.25 करोड़ रुपये की कस्टम डूटी मिलने का अनुमान है। यह माल दुबई‍र् से आ रहा था और इसे एफटीडब्ल्यूजेड न्हावा शेवा में जब्त किया। आयातित माल की डिलीवरी गोरेगांव के रामचंद्र एंटरप्राइजेज के नाम थी। कस्टम डिपार्टमेंट उसकी तलाश में है और उसे कभी भी अरेस्ट कर सकती है।
सूत्रों के अनुसार, इस कंटेनर को एफडीए की एनओसी भी नहीं है। आयातक ने इस कंटेनर को कहकर आयात किया था कि इसमें स्क्रैबर (बर्तन साफ करने के लिए काम आने वाला) है। जब यह कंटेनर खोला गया तो इसमें शुरुआत में और ऊपर-ऊपर 29 कंटेनर इसी स्क्रैबर से भरा हुआ था ताकि कस्टम वालों को पता नहीं चले कि पीछे वाले कार्टन में क्या है। कस्टम वालों को शक हुआ और उन्होंने पीछे वाले कार्टन भी चेक किए जिसमें अनेक आयातित चीजें जैसे फूडस्टफ, कॉस्मेटिक्स, परफ्यूम, डियोडरेंट, साबुन और ब्यूटी प्रॉडक्ट्स थे। साथ ही कुछ ऐसे कार्टन भी थे जिनमें परफ्यूम था जो सेक्स क्षमता बढ़ाने के लिए मंगाए गए थे।
कस्टम के अनुसार, इन आयातित पदाथो की स्कूल- कॉलेज, क्लब, डिस्को, पब और हाई‍र् सोसायटी में भारी मांग है। इसमें बहुत ज्यादा मुनाफे को देखते हुए इसका आयात चोरी-छिपे किया जाता है। जहां स्क्रैबर के आयात करने पर बहुत कम कस्टम डूटी लगती है वहीं इन फूडस्टफ के आयात पर 30 पसेट कस्टम डूटी देनी पड़ती है। इसी डूटी को बचाने के लिए आयातक इस तरह की तरकीब अपनाते हैं।

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics