मामले को निपटाने हेतु प्रवर्तन निदेशालय का अफसर करोड़ों की रिश्वत लेते सीबीआई द्वारा गिरफ्तार

Image result for मुंबई। 12 करोड़ रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी)मुंबई। 12 करोड़ रुपये की रिश्वत मांगने के आरोप में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के अफसर की गिरफ्तारी में कई पर्तें उभरकर सामने आ रही हैं। अफसर अशोक नायक ने यह दावा किया था कि वह प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) के एक आईएएस अधिकारी के जरिए काम कराएगा। इसको देखते हुए मामले की जांच में जुटे सीबीआई अधिकारियों के कान खड़े हो गए हैं।

सीबीआई अब यह पता लगा रही है कि क्या वास्तव में इस भ्रष्टाचार के मामले में पीएमओ का अधिकारी लिप्त है या नहीं। सूत्रों के अनुसार, इस मामले में कई बड़े आईएएस, आईपीएस, कस्टम, एक्साइज और ईडी के अधिकारी शामिल हो सकते हैं। सीबीआई सभी की फोन टैपिंग खंगाल रही है।
सीबीआई ने 7 मई को इस अधिकारी को नवी मुंबई के कपाल बार ऐंड डिंपल लॉज के होटल कारोबारी राजू शेट्टी की शिकायत पर गिरफ्तार किया है। होटल कारोबारी के खिलाफ दर्ज ईडी के एक मामले को निपटाने के लिए कथित रूप से 12 करोड़ रुपये की रिश्वत मांगी गई थी। वर्ष 2014 बैच के आईआरएस अधिकारी नायक को अगले महीने सेवानिवृत्त होना है। सीबीआई द्वारा गिरफ्तार केंद्रीय एक्साइज विभाग के एक सहायक आयुक्त (एसी) ने दावा किया था कि वह कफ परेड में एक्साइज के एक आॅफिस में तैनात है और वहां एक्साइज शुल्क संबंधी बड़े विवादों के निपटाने का काम देखता है। कफ परेड से पहले दस साल तक नवी मुंबई में ही तैनात था। इन सभी की यहां के होटल, बार आदि में काफी आवाजाही थी।
सीबीआई ने शिकायतकर्ता शेट्टी के दावों के सत्यापन के लिए उनकी मुलाकात से पहले छिपा हुआ आवाज टैप करने वाला उपकरण लगा दिया था। सीबीआई के सामने अपने बयान में शेट्टी ने दावा किया था कि वह होटल मालिक के बेटे के साथ नायक से उसके आॅफिस में मिला था। नायक ने ईडी में लंबित मामले को निपटाने के लिए उनसे कथित रूप से 12 करोड़ रुपये मांगे थे। शेट्टी ने सीबीआई को बताया कि अशोक नायक ने हमें बताया कि वह पीएमओ के एक आईएएस अधिकारी के जरिए काम करवा रहा है और उसने पहली किस्त के रूप में हमसे सवा करोड रुपये मांगे। सीबीआई द्वारा आरोपी को रंगे हाथों पकड़ने के अभियान में नायक के साथ बैठक 5 मई को कफ परेड के वर्ल्ड ट्रेड सेंटर की 30वीं मंजिल में हुई। मामले को पुख्ता बनाने के लिए सीबीआई ने न केवल आवाज टेप करने वाला उपकरण लगाया, बल्कि एक गवाह भी साथ लगा दिया। इसके अलावा, सीबीआई ने अपने कुछ अधिकारी भी तैनात कर दिए जो शेट्टी और एसी अशोक नायक पर नजर रखे हुए थे। शेट्टी का आरोप है कि उसे ईडी से एक नोटिस पिछले साल मिला था। इसी अप्रैल में एक व्यक्ति शेट्टी के पास आया और बोला कि यदि आपको अपना यह केस निपटाना है तो कफ परेड में स्थित आॅफिस में इस एसी से मिलना होगा। मामला पिछले साल इस होटल और बार पर ईडी के छापे से जुड़ा हुआ था। इस छापे में कई लड़कियों को यहां से छुड़ाया गया था। साथ ही मनी लॉन्ड्रिंग का मामला सामने आया था। जैसे ही यह अधिकारी तय हुई 12 करोड़ रुपये की रिश्वत में से 1.25 करोड़ रुपये की पहली किश्त ले रहा था सीबीआई ने उसे दबोच लिया।

सौजन्य से : नवभारत टाइम्स

You are Visitor Number:-