फैक्ट चेक: क्या वाकई 4 साल में मोदी सरकार ने बना दिए 35 एयरपोर्ट

भारत में अब 100 एयरपोर्ट चालू हैं जिनमें से 35 पिछले चार साल में बनाए गए”. ये बात प्रधानमंत्री ने 24 सितंबर को सिक्किम के पहले एयरपोर्ट ‘पाकयोंग’  के उद्घाटन समारोह में कही.

प्रधानमंत्री ने कहा, “आजादी के बाद 2014 तक देश में 67 वर्षों में सिर्फ 65 एयरपोर्ट बने. यानी एक साल में औसतन एक ही एयरपोर्ट बना. वहीं बीते चार साल में औसतन हर साल 9 एयरपोर्ट बने.” प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने भी बाद में इसी सूचना को ट्वीट किया.

प्रधानमंत्री के इन दावों को लेकर सोशल मीडिया पर तीखी बहस छिड़ गई. कई ट्विटर यूजर्स ने प्रधानमंत्री के दावों पर सवाल उठाया. जेम्स विल्सन (@jamewils)  ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा कि प्रधानमंत्री के स्क्रिप्ट-राइटर्स ने पॉकयोंग एयरपोर्ट को देश का 100वां एयरपोर्ट बताने में गलती की.

इंडिया टुडे फैक्ट चेक टीम ने दावों को लेकर सही तथ्य सामने लाने के लिए पड़ताल का फैसला किया.

दावा:  ‘आज हमने 100 एयरपोर्ट चालू कर दिए हैं’.

फैक्ट- लगभग सही. आज की बात करें तो भारत में 100 एयरपोर्ट चालू हैं. ये जानकारी और कोई नहीं सिविल एविएशन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा संसद को दे चुके हैं.

एक सवाल का जवाब देते हुए 19 जुलाई को लोकसभा में सिन्हा ने बताया, ‘एयरपोर्ट्स अथॉरिटी ऑफ इंडिया (AAI)  के कुल 129 एयरपोर्ट हैं जिनमें से 101 चालू हैं’.

दावा:  100 एयरपोर्ट्स में से 35 पिछले 4 साल में बने. आजादी के बाद से 2014 तक 67 वर्षों में सिर्फ 65 एयरपोर्ट बने.

फैक्ट:  झूठ…बीते चार साल में सिर्फ 7 चालू एयरपोर्ट ही जोड़े गए.

सरकारी रिकॉर्ड्स के मुताबिक 2014 तक ही 94 एयरपोर्ट चालू हो गए थे. ये बात तत्कालीन सिविल एविएशन मंत्री अशोक गजपति राजू ने

1 दिसंबर 2014 को लोकसभा में कही थी.

उस वक्त तक केंद्र में मोदी सरकार को छह महीने ही हुए थे. अगर इन दो मंत्रियों के बयानों को देखें तो अशोक गजपति राजू के मुताबिक 2014 में 94 एयरपोर्ट और जयंत सिन्हा के मुताबिक 2018 में 101 एयरपोर्ट चालू थे. साफ है कि बीते 4 साल में 7 चालू एयरपोर्ट ही जोड़े गए.

हमने एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पीआरओ जे बी सिंह से उन 35 नए एयरपोर्ट की लिस्ट देने के लिए कहा, जिनका जिक्र प्रधानमंत्री ने किया था. इस पर उनका जवाब था कि एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के पास ऐसी लिस्ट नहीं है.

Factchecker.in / ) की प्रधानमंत्री के दावे को लेकर रिपोर्ट में भी यही पाया गया कि बीते चार साल में 7 एयरपोर्ट ही जोड़े गए.

दावा:  “बीते चार साल में हर साल औसतन 9 एयरपोर्ट बने.”

फैक्ट:  झूठ. अगर एक साल में औसतन नौ एयरपोर्ट बनते तो अब तक 36 नए एयरपोर्ट बन जाते. असल में 7 नए एयरपोर्ट ही बनकर तैयार हुए और चालू हैं. ये जो सातों एयरपोर्ट मोदी सरकार की ओर से चालू किए गए, उन्हें भी वास्तव में यूपीए कार्यकाल के दौरान ही मंजूरी मिली थी.

8 दिसंबर 2014 को तत्कालीन सिविल एविएशन राज्य मंत्री डॉ महेश शर्मा ने एक सवाल के जवाब में लोकसभा में बताया था- भारत सरकार ने सैद्धांतिक रूप से देश में 15 ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट बनाने के लिए मंजूरी दे दी है.

सिक्किम का पाकयोंग एयरपोर्ट जिसका 24 सितंबर को प्रधानमंत्री ने उद्घाटन किया, वो भी एक ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट है.

लोकसभा के रिकार्ड के मुताबिक

डॉ महेश शर्मा ने जिन 15 ग्रीनफील्ड एयरपोर्ट्स के बारे में बात की थी, उन्हें भी यूपीए के कार्यकाल में ही मंजूरी मिली थी. आधिकारिक रिकॉर्ड और तथ्य प्रधानमंत्री की ओर से किए गए दावों का समर्थन नहीं करते.

सौजन्य से: आज तक

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics