पैंट और जूते में छिपाकर कोलकाता ला रहा था तीन करोड़ का सोना, डीआरआई ने दबोचा

कोलकाता। म्यांमार से सीमा पार कर मणिपुर के रास्ते असम होते हुए कोलकाता के बड़ाबाजार लाए जा रहे तीन करोड़ रुपये के सोने के 56 बिस्कुट के साथ एक तस्कर को राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) की टीम ने गिरफ्तार किया है। उसने सोने को पैंट और जूते में छिपाकर रखा था। यह जानकारी रविवार को डीआरआई के पूर्वी क्षेत्रीय उपनिदेशक पार्थ प्रतिम बसु ने दी है।

बसु ने बताया कि शनिवार शाम डीआरआई को गुप्त सूचना मिली थी कि म्यांमार से सोने को तस्करी कर असम के डिब्रूगढ़ ले जाया गया था और वहां से किसी दूसरे शख्स को इसे दिया गया था। वह व्यक्ति सोने को लेकर 15960 डाउन डिब्रूगढ़ टाउन हावड़ा कामरूप एक्सप्रेस ट्रेन से कोलकाता के लिए रवाना हुआ है। डिब्रूगढ़ से ही डीआरआई के अधिकारी उसका पीछा कर रहे थे और न्यू जलपाईगुड़ी स्टेशन पर शाम 5:15 बजे के करीब जैसे ही ट्रेन रुकी डीआरआई के अन्य अधिकारियों और आरपीएफ की मदद से ट्रेन में ही छापेमारी कर उसे दबोच लिया गया।

Kolkata was bringing Rs 3 crore gold hidden from pants and shoes DRI dabba

तस्कर की तलाशी लेने पर उसके जूते के सोल और विशेष तौर पर पैंट में बनाई गई जेब से सोने के 56 बिस्कुट बरामद किए गए। इसका वजन 9.296 किलो है और कीमत 3 करोड़ 8417 रुपये है। तस्कर का नाम राजू अदास है। वह हुगली जिले के चंडीतल्ला थाना अंतर्गत मुकुंदपुर पूर्वपाड़ा का निवासी है। प्राथमिक पूछताछ में उसने बताया है कि डिब्रूगढ़ से इस सोने को लेकर वह कामरूप एक्सप्रेस से हावड़ा पहुंचने वाला था। वहां से वह कोलकाता के बड़ाबाजार में जाकर किसी तीसरे शख्स को इसे सुपुर्द करने वाला था।

उससे पूछताछ कर कोलकाता के उस तीसरे व्यक्ति के बारे में पता लगाने की कोशिश की जा रही है। उसने बताया कि इस सोने को छिपाने के लिए उसने विशेष तौर पर स्पोर्ट्स शू बनवाया था जिसका सोल खोखला रखा गया था और उस जगह में सोने के बिस्कुट को भरा गया था ताकि सुरक्षा एजेंसियों को चकमा दिया जा सके। इसके अलावा पैंट में जहां बेल्ट लगाया जाता है वहां भी एक विशेष तौर पर गुप्त जेब बनवाया था जिसमें सोने के टुकड़े को छुपा कर ले जा रहा था।

खास बात यह है कि जब्त किए गए सोने के बिस्कुट पर किसी भी कंपनी का नाम या सीरियल नंबर भी नहीं है जबकि कायदे से वैश्विक तौर पर सोने के बिस्कुट आदि बनाने के दौरान उस पर सीरियल नंबर अंकित करने का प्रावधान है। उससे पूछताछ कर उसके अन्य साथियों के बारे में पता लगाने की कोशिश की जा रही है। पार्थ प्रतिम बसु ने बताया कि इस साल अब तक डीआरआई की टीम ने पश्चिम बंगाल और पूर्वोत्तर के क्षेत्रों से 345.6 किलो गैरकानूनी सोने की तस्करी पकड़ी है जिसकी कीमत 107.23 करोड़ रुपये है।

सौजन्य से: संजीवनी टुडे

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics