पूर्वाचल को बनाना चाहता था ‘उड़ता पंजाब’

Story image for पूर्वाचल को बनाना चाहता था ‘उड़ता पंजाब’ from Pradesh18 Hindi वाराणसी : बनारस को सेंटर बनाकर पूर्वाचल के हर शहर में नशे को पहुंचाने वाले एक गैंग के तस्कर को डीआरआई (डायरेक्टरेट अॉफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस) की टीम ने शनिवार को धर दबोचा। उसके पास से बरामद दो किलो हेरोइन की कीमत इंटरनेशनल मार्केट में पांच करोड़ रुपये बतायी जा रही है। पश्चिम बंगाल के मुर्शीदाबाद से लायी गई हेरोइन की इस खेप के साथ तस्कर को टीम ने कैंट स्टेशन से अरेस्ट किया। उसके बैग से हेरोइन के अलावा दो लीटर एसिटिक एनहाइड्राइड भी बरामद हुआ है। टीम उससे गैंग के बारे में पूछताछ कर रही है। पकड़ी गयी हेरोइन को बनारस लाने के बाद इसकी सप्लाई पूर्वाचल के विभिन्न जिलों में की जानी थी। गिरफ्तार तस्कर हसीबुर्र रहमान ने पूछताछ में इसका खुलासा किया। डीआरआई को पश्चिम बंगाल से भारी मात्रा में हेरोइन बनारस आने की सूचना मिली थी।
इस सूचना पर टीम पिछले तीन दिनों से बंगाल से आने वाली ट्रेनों की छानबीन में जुटी थी। शनिवार को काला एयरबैग लेकर ट्रेन से उतरे एक युवक को देख टीम को संदेह हुआ। शंका गहराने पर टीम ने उसे दबोच लिया। उसके बैग की तलाशी ली गयी तो उसमें से दो किलो हेरोइन मिली। हेरोइन को बैग के निचले हिस्से में रखकर उसके ऊपर से सिलाई की गयी थी। पूछताछ में हसीबुर्र रहमान ने पहले खुद को आजमगढ़ का रहने वाला बताया। पूछताछ में सामने आया कि वह हुसैनाबाद लोलगोला (मुर्शिदाबाद) का रहने वाला है। उसने बताया कि वह इस धंधे में डेढ़ साल से लगा हुआ था। इस दौरान वह कई बार बनारस आया। हेरोइन उसे कालियाचक के रहने वाले लालटू हसन ने दी थी। हर खेप की तस्करी पर उसका कमीशन तय होता है। इससे पूछताछ में मिली जानकारी के बाद अब बनारस में नशे का कारोबार कर रहे लोगों पर नकेल कसने की तैयारी की जा रही है।
सौजन्य से : I Next Live

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics