देश के एक्सपोर्ट में लगातार 15वें महीने गिरावट दर्ज की गई

customs_octroiनई दिल्ली : देश के एक्सपोर्ट में लगातार 15वें महीने गिरावट दर्ज की गई। हालांकि, इंपोर्ट में भी गिरावट के कारण व्यापार घाटा गिरकर 1 साल के निचले स्तर पर आ गया है। फरवरी में एक्सपोर्ट 5.66 फीसदी गिरा जबकि इंपोर्ट में करीब 5 फीसदी की कमी आई है।
फरवरी में देश का व्यापार घाटा 654 करोड़ डॉलर रहा है। पिछले साल फरवरी में व्यापार घाटा 674 करोड़ डॉलर रहा था, जबकि जनवरी महीने में व्यापार घाटा 764 करोड़ डॉलर रहा था।
सालाना आधार पर फरवरी में एक्सपोर्ट 5.66 फीसदी घटकर 2074 करोड़ डॉलर रहा है, पिछले साल फरवरी में एक्सपोर्ट 2108 करोड़ डॉलर रहा था। सालाना आधार पर फरवरी में देश का इंपोर्ट 5.03 फीसदी घटकर 2728 करोड़ डॉलर रहा है, वहीं पिछले साल फरवरी में इंपोर्ट 2871 करोड़ डॉलर रहा था।
सलाना आधार अप्रैल-फरवरी के दौरान देश का एक्सपोर्ट 16.73 फीसदी घटकर 23842 करोड़ डॉलर रहा है। सालाना आधार पर अप्रैल-फरवरी के दौरान देश का इंपोर्ट 14.74 फीसदी घटकर 35181 करोड़ डॉलर रहा है। अप्रैल-फरवरी के दौरान देश का व्यापार घाटा 10.2 फीसदी घटकर 11339 करोड़ डॉलर रहा है।
सालाना आधार पर फरवरी में ऑयल इंपोर्ट 21.9 फीसदी घटकर 477 करोड़ डॉलर रहा है। जनवरी में ऑयल इंपोर्ट 503 करोड़ डॉलर रहा था। सालाना आधार पर फरवरी में गोल्ड इंपोर्ट 29.5 फीसदी घटकर 140 करोड़ डॉलर रहा है। जनवरी में गोल्ड इंपोर्ट 291 करोड़ डॉलर रहा था। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में चांदी का इंपोर्ट 29.31 करोड़ डॉलर से घटकर 5.06 करोड़ डॉलर रहा है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में जेम्स एंड ज्वेलरी का एक्सपोर्ट 314 करोड़ डॉलर से बढ़कर 392 करोड़ डॉलर रहा है।
महीने दर महीने आधार पर फरवरी में पेट्रोलियम प्रोडक्ट्स का एक्सपोर्ट 196 करोड़ डॉलर से घटकर 183 करोड़ डॉलर रहा है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में दालों का इंपोर्ट 48.73 करोड़ डॉलर से घटकर 25.05 करोड़ डॉलर रहा है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में चावल का एक्सपोर्ट 46.28 करोड़ डॉलर से घटकर 38.94 करोड़ डॉलर रहा है। महीने दर महीने आधार पर फरवरी में इलेक्ट्रॉनिक सामानों का इंपोर्ट 318 करोड़ डॉलर से घटकर 309 करोड़ डॉलर रहा है।
महीने दर महीने आधार पर फरवरी में आयरन और स्टील का इंपोर्ट 122 करोड़ डॉलर से घटकर 108 करोड़ डॉलर रहा है।
सौजन्य से : moneycontrol

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics