दुबई में कार्यरत युवक ने लगाए डीआरआई अधिकारियों पर पैसे मांगने के आरोप

दुबई में वर्क परमिट पर रहे लुधियाना निवासी अभिनव बंसल ने डीआरआई पर उसे तंग परेशान करने और पैसे मांगने के आरोप लगाए हैं। हालांकि डीआरआई के डिप्टी डायरेक्टर श्री राम बिश्नोई ने इन आरोपों को सिरे से नकार दिया है।

अभिनव के अनुसार उसकी 10 नवंबर की देर रात्रि 2:50 बजे अमृतसर से दुबई की फ्लाइट थी। उसके पास उसके वेतन के करीब 12 हजार डालर थे। उसे एयरपोर्ट पर डायरेक्टोरेट आफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (डीआरआई) के सुपरिंटेंडेंट और कस्टम के सुपरिंटेंडेंट की ओर से रोक लिया और उससे करंसी (डालर) को लेकर पूछताछ की गई।

अभिनव के अनुसार उसने उन्हें बताया कि वह दुबई में काम करता है और यह उसके वेतन के पैसे हैं। उसने आरोप लगाया कि इन अधिकारियों ने उसकी बात नहीं मानी और आधे पैसों की माग करने लगे। जब उसने ऐसा करने से मना कर दिया तो उसे धमकाया गया। उसका मोबाइल और लैपटाप सीज कर दिया गया। इसके बाद उसे 12 नवंबर को उसे अमृतसर स्थित डीआरआई आफिस में आकर बयान देने के लिए समन दे दिया। इसके बाद वह डीआरआई आफिस पहुंचा तो वहा उससे उन बयानों पर साइन करवाने का दबाव बनाया गया जो उन्होंने खुद लिखे थे। उसके मना करने पर उसे सारा दिन वहा बिठाए रखा। इसके बाद उसने अमृतसर में रहने वाले अपने अंकल जीवन जैन को मामले की जानकारी दी। बाद में पुलिस को बुलाया गया और पुलिस ने मामला हल करवाया। इसके बाद वह मंगलवार तड़के दुबई के लिए रवाना हो सके।

उधर, डीआरआई के डिप्टी डायरेक्टर श्री राम बिश्नोई ने बात करने पर सभई आरोप नकारते हुए कहा कि विदेशी करंसी की सूचना के बाद अभिनव को रोका गया। 12 तारीख को उनको ब्यान दर्ज करवाने के लिए बुलाया था। जो दोपहर को पहुंचे, जिसके चलते ब्यान दर्ज करवाने में देरी हुई। उनसे व्यक्तिगत तौर पर कोई रंजिश नहीं है, डीआरआई अधिकारियों ने अपनी ड्यूटी निभाई है।

सौजन्य से: जागरण

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics