डीआरआई ने पीथमपुर के अवैध गोदाम से 47.5 करोड़ की ड्रग्स पकड़ी

इंदौर : पीथमपुर में बड़ी कार्यवाई करते हुए डायरेक्टर ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस (डीआरआई) इंदौर ने 47.50 करोड़ रूपये का ड्रग्स जब्त की है। रेव पार्टीयों में प्रतिबंधित एफेड्रिन प्रचलन के लिए कुख्यात है। डीआरआई इंदौर की टीम ने पीथमपुर में दवा कंपनी की आड़ में चल रहे अवैध गोदाम पर छापा मारा। यहां से 236 किलो एफेड्रिन पाउडर जब्त किया, जिसकी अंतराष्टी्रय बाजार में कीमत 47.50 करोड़ से ज्यादा बताई है। गोदाम से चार कर्मचारियों को पकड़ा है। इनसे गोदााम व कंपनी संचालकों के संबंध में पूछताछ जारी है, जिन्हें समन जारी किए है। अहमदाबाद में पूर्व विधायक भावसिंह राठौर का बेटा किशोर अपने गिरोह के साथ रिया इंडस्ट्रीज के आड़ में यह काम कर रहा था। सोलापुर (महाराष्ट्र) से पाउडर मंगाकर विदेश के कई शहरों में भेज रहा था। एफेड्रिन एनडीपीएस एक्ट के तहत सूची-ए में प्रतिबंध हैं। दवा बनाने वाली कंपनियों को इसके उपयोंग के लिए फूड एंड ड्रग एडमिनेस्ट्रशन का लाइसेंस लेना होता है सूत्रों की माने तो डीआरआई को पूरे गिरोह के पकड़े जाने पर 100 किलो से ज्यादा एफड्रिन जब्त होने की उम्मीद है। डीआरआई का रिजनल कार्यालय एक साल पहले ही इंदौर में खोला गया है। पहले पश्चिम जोन के मुख्यालय मुंबई से सारा कमकाज देखा जाता था। एफेड्रिन का उपयोग अस्थमा व अन्य बीमारियों कि दवाई बनाने में उपयोग किया जाता है। प्रतिबंध नारकोटिक्स ड्रग्स एफेड्रिनको प्रोसेस कर क्रिस्टल मेथ बनाया जाता है, जिससे मेथाफेटामाइन बनाया जाता है। रेव पार्टीयों में इस ड्रग्स का इस्तेमाल पावर बूस्टर के तौर पर प्रचलित है। यह ड्रग्स हर्बल फ्यूल, ची पाउडर हर्बल एक्सटेकसी, जेस्ट आदि नामों से अफसरों का कहना हे कि अब तक की सबसे बड़े कार्रवाई में क्रेता और विक्रेता छापामार के हत्थे चढ़ गए। एफेड्रिन का खरीदार मुंबई से आया था। यह कैरियर बिजनेस है। देश के अलग अलग स्थानों के लोग यहां एफेड्रिन बनाने में संलिप्त हैंं जिस फैक्टी में कार्रवाई की गई है, उस जगह को किराये में उपयोग में लाया जा रहा था। पकड़े गए लोगों की एक फैक्टी संभवत: खलघाट में है। गल्फ और अब्रॉड में बनने वाली दवाओं में इसका उपयोग होता है। 16 अपै्रल को ऐसी ही दवा फैक्टी में 270 करोड़ रूपए की 1300 किलो ड्रग्स पकड़ी गई थी। इंदौर में हुई कार्रवाई उससे ही जुडी मानी जा रही है।

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics