डीआरआई ने कोरियर पार्सलों का पर्दाफाश किया

Image result for कोरियर पार्सलों की तस्करीनई दिल्ली : कोरियर पार्सल से तस्करी डीआरआई – अहमदाबाद ने हाल ही में खोडियार स्थित इनलैण्ड कन्टेनर डिपो से घरेलु सामान में के ट्रांस्फर आॅफ रेजिडेंस की आड़ में कोरियर पार्सलों का पदार्फाश किया है।
डीआरआई को जानकारी मिली थी कि लंदन का तस्करी सिंडिकेट नवसारी में अपने साथियों के साथ आवासीय माल के ट्रांस्फर आॅफ रेजिडेंस की आड़ में कोरियर पार्सलों की तस्करी में शामिल है। यह भी जानकारी मिली थी कि गिरोह ने युनाइटेड़ किंगडम के स्थानांतरण की आड़ में कोरियर पार्सलों की तस्करी में शामिल है। यह भी जानकारी मिली थी कि गिरोह ने यू.के के पोर्ट आंफ फेलिक्सटव से खोडियार स्थित इनलैण्ड कन्टेनर डिपो पर उपयोगी घरेलू पर्सनल इफेक्टस बताकर अलग अलग वस्तुओं 17 मीट्रिक टन से ज्यादा के कोरीयर से पार्सल 40 फिट कन्टेनर में मंगाए जा रहै हैं। बाद में डीआरआई अधिकारीयों ने आइसीडी खोडऋीसार पर कन्टेनरों तक निगरानी की। जब कन्टेनर वहां पहुंचे तो डीआरआई टीम ने इसकी सूचना डिप्टी कमिशनर सीमा शुल्क को दी।
कन्टेनरों की तलाशी में कोरियर पार्सल के साथ 700 बैग और बांक्स मिले। प्रत्येक बैग और बांक्स पर कोरियर पार्सल प्राप्त करने वालों के नाम, पता मोबाइल समेत जानकारी मिली थी। इन बैगों में शूज,लैडीस सैण्डल, चोकलेट , घड़ियां ,ड्राय फ्रुट्स कांस्मेटिक्स वस्तुएं, गारमेन्ट समेत सामान था। जांच के दौरान अधिकारीयों को मालूम हुआ कि यह मामल हाजरबीबी अब्दुल अजीज भाममजी के नाम था, लेकिन यह माल उनका नहीं बल्कि नवसारी निवासी सलीम का था। जो कोरियर कारोबार से जुड़ा है। इंगलैण्ड से भारत के बीच यात्रा करने वाले कई यात्रियों के पासपोर्ट के रंगिन कांपियों तस्करों ने स्कैन कर ली थी। इसके लिए पांच हजार से दस हजार रुपए भी भुगतान कर रहे थे। बाद में उन यात्रियों के नाम से आवासीय माल ट्रांस्फर आॅफ रेजिडेंस बताकर तस्करी करते थे। फिलहाल डीआरआई अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं।

You are Visitor Number:-