डीआरआई ने किया बड़ा शिकार

Image result for रिटायर्ड कर्नल की कोठी पर डीआरआइ Related imageImage result for रिटायर्ड कर्नल की कोठी पर डीआरआइआइजीआइ से पकड़े गए तीन विदेशियों से मिला सुराग 1डीआरआइ के अधिकारियों के मुताबिक, हाल ही में टीम ने दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से तीन विदेशी नागरिकों को 25 विदेशी असलहों के साथ गिरफ्तार किया था। ये तीनों टर्किश एयरलाइन से लिजबुलजना, स्लोवेनिया होते हुए इस्तांबुल जा रहे थे। इनसे आॅस्टिया और इटली आदि की कंपनियों के 25 असलहे भी मिले थे। तीनों से पूछताछ में मेरठ के शूटर प्रशांत बिश्नोई का नाम सामने आने पर डीआरआइ ने वन विभाग की टीमों के साथ छापामारी की। हालांकि टीम के आने पर प्रशांत फरार हो गया। उसके पकड़े जाने पर काले धंधे का और बड़ा सच उजागर होने की उम्मीद है।

मेरठ। सिविल लाइंस क्षेत्र में रिटायर्ड कर्नल की कोठी पर डीआरआइ और वन विभाग के 15 घंटे के सर्च आपरेशन में बड़ी कामयाबी मिली है। कोठी से एक करोड़ नकदी, 50 विदेशी समेत 100 असलाह, दो लाख कारतूस और वन्यजीवों के अवशेष मिले। रिटायर्ड कर्नल देवेंद्र कुमार बिश्नोई का नेशनल शूटर बेटा प्रशांत बिश्नोई फरार हो गया। अलर्ट जारी कर दिया गया है। सूत्रों के मुताबिक, टीम दिल्ली, गुरुग्राम समेत देश कई स्थानों पर छापामारी कर रही है। कई लोगों के हिरासत में लिए जाने की सूचना है। डीआरआइ टीम के अधिकारियों ने एसएसपी से मुलाकात के बाद सिविल लाइन क्षेत्र की कोठी नंबर 36/4 में रिटायर्ड कर्नल बिश्नोई के यहां छापामारी की थी।
15 घंटे की कार्रवाई के बाद अफसर घर से बरामद सामान सील कर ले गए थे। कर्नल का बेटा प्रशांत बिहार में करीब 500 नील गायों का शिकार करने के मामले में चर्चित रहा है। इस मामले में डीआरआइ के एडिशनल डायरेक्टर, दिल्ली जोन राजकुमार दिग्विजय ने बताया कि रिटायर्ड कर्नल की कोठी और दिल्ली में एक जगह से दो लाख से अधिक विदेशी कारतूस, विदेशी कंपनियों के ब्रांडेड हथियार, तेंदुए की खाल, सांभर और हिरण के सिर, सींग, वन्य जीवों के दांत, फ्रीजर में रखे गए पैकेटों में करीब सवा कुंतल वन्य जीवों का मांस और एक करोड़ नकदी बरामद हुई है। मामला वन्य जीवों की तस्करी व हथियारों की सप्लाई से जुड़ा है। कर्नल की कोठी से बरामद तेंदुए की खाल जिम कार्बेट के जंगल से शिकार करके लाए जाने की बात कही जा रही है।

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics