चाइना से इम्पोर्ट पर पूरी तरह से रोक संभव नहीं -सीताराम

नई दिल्ली : भारत ने क्वालिटी गुणवत्ता के लिहाज से निम्नस्तरीय पाए जाने के बाद चीन से दूध और दुग्ध उत्पादों तथा कुछ मोबाइल फोन समेत कुछ उत्पादों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है। लेकिन सरकार ने स्पष्ट कर दिया है कि विश्व व्यापार संगठन के सदस्य देश होने के नाते चीन से होने वाले आयात पर पूरी तरह रोक लगाना संभव नहीं है। लोकसभा में चीन से होने वाले आयात और उसके राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़े मुद्दों पर कई सांसदों ने सवाल उठाया। बिहार के बेगुसराय से भाजपा सांसद भोला सिंह एवं कुछ अन्य सदस्यों के पूरक प्रश्नों के उत्तर में वाणिज्य मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि भारत ने चीन से जिन उत्पादों के आयात पर प्रतिबंध लगा दिया है, उनकी गुणवत्ता अस्वीकार्य थी।
सीतारमण ने कहा कि वैसे कुछ मोबाइल फोन जिन पर अंतरराष्ट्रीय मोबाइल स्टेशन उपकरण पहचान संख्या (आईएमईआई) या अन्य सुरक्षा सुविधाएं नहीं थी, उन्हें भी प्रतिबंधित किया गया है। इसके साथ चीन से कुछ इस्पात उत्पादों के आयात पर भी प्रतिबंध लगा दिया गया है।
सीतारमण ने कहा कि चीन के साथ हमारा व्यापार घाटा बढ़ा है जिसका कारण मुख्य रूप से यह है कि चीन की ओर से भारत को निर्यात मुख्य रूप से दूरसंचार और ऊर्जा क्षेत्र से जुड़े विनिर्माण क्षेत्र के उत्पादों का है। इन उत्पादों की मांग भारत में बीते कुछ वर्षो में तेजी से बढ़ी है।
वाणिज्य मंत्री ने कहा कि डब्ल्यूटीओ नियमों के कारण अब किसी देश से आयात पर पूर्ण प्रतिबंध लगाना संभव नहीं है। चाहे उस देश के साथ हमारे राजनयिक, क्षेत्रीय या सैन्य समस्याएं क्यों न हो। उन्होंने कहा कि चीन के साथ हमारा व्यापार घाटा 2015-16 की फरवरी-अप्रैल की अवधि में 48.68 अरब डॉलर था जबकि द्विपक्षीय कारोबार 65.16 अरब डॉलर था। यानी वहां से भारत का चीन से निर्यात की अपेक्षा आयात अधिक है।

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics