मुंबई स्थित कंपनी ने की 17.72 की सर्विस टैक्स चोरी

मुंबई : सर्विस टैक्स की चोरी के आरोप में मुंबई के सर्विस टैक्स कमिश्नर ने कॉर्पोरेट सेक्टर के एक एग्जेक्युटिव को गिरफ्तार किया है और उसे कोर्ट ने 16 जुलाई तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया है।service tax सर्विस टैक्स कमिशन के जोन-7 के डेप्युटी कमिश्नर विशाल मालानी के अनुसार, नवी मुंबई के दुनिम्मा इंजिनियर्स ऐंड डायवर्स, दुनिम्मा शिपिंग और शिवा इंजिनियरिंग के एग्जेक्युटिव अर्जुन सिंह राठौड़ इन कंपनियों के क्लाइंट्स का सर्विस टैक्स तो काट रहे थे, लेकिन उसे सरकार के खाते में जमा नहीं कर रहे थे।
जांच में यह भी सामने आया कि ये तीनों फर्म अक्टूबर 2012 से सर्विस टैक्स न तो चुका रही थीं और न ही कोई रिटर्न भर रही थीं। इस पर सर्विस टैक्स अधिकारियों ने उनके घरों और ऑफिस में छापे मारे और उन्हें सर्विस टैक्स की चोरी के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। मालानी के अनुसार, यह चोरी करीब 17.72 करोड़ रुपये की हुई। उन्हें चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया जहां से उन्हें 16 जुलाई तक की न्यायिक हिरासत मिली।
मालानी के अनुसार, फाइनैंस ऐक्ट 1944 के तहत यह व्यवस्था है कि यदि कोई फर्म या व्यक्ति 50 लाख रुपये से ज्यादा के सर्विस टैक्स की चोरी के आरोप में पकड़ा जाता है तो उसे अधिकतम 7 साल की कैद हो सकती है।

स्रोत : नवभारत

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics