एयरलाइन्स कर्मचारी को एक किलो गोल्ड तस्करी के लिए दिए जाते 50,000- 60,000 हजार रूपये

नई  दिल्ली : एक साल के अंदर डीआरआई ने एयर इंडिया, जेट एयरवेज, इंडिगो और गल्फ एयरलाइन्स के 42 कर्मचारियों को गोल्ड स्मगलिंग के आरोप में गिरफ्तार किया। इनमे केबिन क्रू और ग्राउंड हैंडलिंग,वर्कर्स भी शामिल हैं। यह जानकारी डीआरआई ने दी है। गोल्ड स्मगलिंग में एयरलाइन्स स्टाफ की बढ़ती सक्रियता ने सभी बड़े एयरलाइन्स के सिक्योरिटी हेड्स की मीटिंग बुलाई और उनसे कहा कि वे रेक्रूटमेंट करते समय कैंडिडेट के पिछले रिकॉर्ड की पूरी जानकारी हासिल करें।womern

डीआरआई के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि यह राष्ट्रीय सुरक्षा का मामला है। इसलिए हमने इसे एयरलाइन्स के ऑपरेटर्स के सामने रखा। हमें शक है कि एयरलाइन्स स्टाफ को रिश्वत देकर गोल्ड की आड़ में विस्फोर और हथियार की स्मगलिंग भी की जा सकती है। बैठक में डीआरआई ने उन मामलों का भी जिक्र किया जिनमे एयरलाइन से हटाये जाने के बाद आरोपी को दूसरी एयरलाइन्स में काम मिल गया। डीआरआई ने निर्देश दिया है कि स्टाफ का बैकग्राउंड नेशनल क्राइम ब्यूरो से वेरिफाई किया जाये। डीआरआई के अनुसार उसने इस साल 1,120 करोड़ रूपये का गोल्ड जब्त किया है। इसमें से अधिकांश हिस्सा एयरलाइन्स स्टाफ के द्वारा तस्करी की गई है। साल 2013-14 में डीआरआई ने 690 करोड़ का गोल्ड जब्त किया था। डीआरआई ने पाया कि मिडल ईस्ट के तस्कर एयरलाइन्स के महिला स्टाफ को ज्यादा जरिया बनाते हैं। क्योंकि उन पर एनफोर्समेंट एजेंसियों का शक जाने की गुंजाइश कम होती है। डीआरआई ने पाया कि पुरुष केबिन क्रू को एक किलो गोल्ड तस्करी में 50,000- 60,000 हजार रूपये दिए जाते हैं। जेट एयरवेज औए इंडिगो के प्रवक्ताओं ने कहा कि ऐसे मामलों को वह बिलकुल बर्दाश्त नहीं करती।

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics