अब तक की सबसे बड़ी सोने की तस्करी का भंडाफोड़, 6 लोग गिरफ्तार

अहमदाबाद : स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने मंगलवार सुबह सरदार वल्लभभाई पटेल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे अहमदाबाद।शहर के स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने मंगलवार सुबह सरदार वल्लभभाई पटेल अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से 60 किलोग्राम सोने के साथ छह जनों को धर दबोचा है। इसमें एक महिला व एक टैक्सी चालक भी शामिल है। जब्त सोने की कीमत साढ़े 16 करोड़ है। इससे पहले इंडो-नेपाल बोर्डर पर सबसे बड़ी 37 किलो सोने की खेप पकड़ी गई थी। माना जा रहा है कि संभवतया यह सोना तस्करी में देश की अब तक की सबसे बड़ी कार्रवाई है।
क्राइम ब्रांच के विशेष आयुक्त ए.के. शर्मा ने बताया कि गिरफ्तार आरोपितों में मुंबई मीरारोड निवासी क्लीफोर्ड एन्थोनी डिकोस्टा, हरियाणा के पानीपत जिले के इसराणा गांव निवासी वीरेन्द्र सिंह करमवीर सिंह सुलतान (जागलान), मुंबई ईस्ट नताशापार्क निवासी महिला सपना दीपकभाई, दिल्ली निवासी जयवीर सिंह शमशेर सिंह, कपिल जगदेव सिंह व अहमदाबाद निवासी टैक्सी चालक दिनेश देसाई शामिल है।
इसमें से मुख्य आरोपित क्लीफोर्ड डिकोस्टा है, जो दुबई से वीरेन्द्र सिंह व सपना के साथ ये सोना लेकर अमीरात एयरलाइंस से अहमदाबाद एयरपोर्ट पहुंचा था। जयवीर सिंह व कपिल सोने को लेने के लिए टैक्सी चालक दिनेश के साथ पहुंचे थे।
इन्हें एसओजी एसीपी बी.सी.सोलंकी, पीआई बी.डी.जाडेजा, पीएसआई वी.एच.जाडेजा व सी.बी.गामित की टीम ने सूचना के आधार पर अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट से ग्रीन चैनल से बाहर निकलते ही पार्किग में खड़ी कार में सोने से भरे बैगों को रखने के दौरान धर दबोचा। ये सोने को एक्जीक्यूटिव हैंड बैग में लेकर आए थे। इसमें से डिकोस्टा व एक अन्य डोमेस्टिक एयरपोर्ट से मुंबई जाने वाले थे। शंका ना हो इसलिए महिला को साथ रखते थे।
शर्मा ने कहा कि इतनी बड़ी खेप होने से देशभर के अन्य प्रांतों में भी इसे पहुंचाए जाने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। मामले में प्राथमिकी दर्ज कर जांच की जाएगी। एयरपोर्ट, होटलों की सीसीटीवी फुटेज, मोबाइल डिटेल, एफएसएल जांच से खुलासा होने की उम्मीद है।
सौ रूपए के नोट के नंबर से तय होती थी पहचान :
शर्मा ने बताया कि ये सोना दुबई से संजय व साहिल गांधी ने इन तीनों के माध्यम से भेजा था। इन्हें बताया था कि ये उसी व्यक्ति को ये सोना दें जो उनकी ओर से बताए गए नंबर का सौ रूपए के नोट लेकर उनके पास आए। सौ रूपए के नोट का नंबर दुबई में बैठे गिरोह से जुड़े लोग एसएमएस या फिर वॉट्स एप से भेजते थे। ये भी नोट देखने के बाद ही सोना देते थे।
शर्मा ने बताया कि मुख्य आरोपित डिकोस्टा ने कबूला कि गत एक वर्ष में शहर में करीब पांच-छह बार ऎसे ही सोने की खेप लेकर आ चुका है। हर खेप के लिए प्रत्येक व्यक्ति को 50 हजार से एक लाख मिलते हैं। साथ ही बिजनेस क्लास की विमान की टिकट और होटल में ठहरने, खाने-पीने की सुविधा। कई बार ये अहमदाबाद आने के दूसरे दिन होटल से अन्य जगह पर डिलीवरी देते थे।
ये ऑटो से जाते व डिलीवरी लेने आने वाला दुपहिया वाहन से आता ताकि शंका ना हो। इसमें से इन्होने सरसपुर अंबर सिनेमा के पास, सीजी रोड और आश्रम रोड पर लोगों को सोने डिलीवरी देने की बात कबूली है।
ग्रीन चैनल का किया उपयोग
शर्मा ने बताया कि दुबई में सोना लेकर जाने की छूट है, जिससे दुबई फ्री एयरपोर्ट है। इससे आरोपित एयरपोर्ट के अंदर ही सोने से भरी बैगों को भारत आने वाले यात्रियों से बदल लेते हैं। यहां एयरपोर्ट से ये सभी संभवत: ग्रीन चैनल का उपयोग करके सोना लेकर बाहर निकले हैं।
ग्रीन चैनल वो होता है, जिसमें ऎसे यात्री होते हैं, जो यात्रा से पहले ये घोषित करते हैं कि उनके पास ऎसी कोई वस्तु नहीं है, जिस पर डयूटी लगे। ऎसे यात्रियों में से सिर्फ दस फीसदी यात्री की ही शंका होने पर जंाच की जाती है। रेड चैनल में ऎसे यात्री आते हैं, जिनके पास ऎसी वस्तुएं हैं जिस पर डयूटी लगनी है। हालांकि इसकी जांच की जाएगी कि ये यात्री एयरपोर्ट से इतना सोना लेकर कैसे बाहर निकले।
स्रोत : पत्रिका न्यूज़

Leave a Reply

*

You are Visitor Number:- web site traffic statistics